-->

coronavirus status

व्हाइट हाउस में ही रहना चाहते हैं डोनाल्ड ट्रम्प, यहां वे बंकर की तरह सुरक्षित महसूस करते हैं

व्हाइट हाउस में ही रहना चाहते हैं डोनाल्ड ट्रम्प, यहां वे बंकर की तरह सुरक्षित महसूस करते हैं

चुनाव हारने के बाद डोनाल्ड ट्रम्प दो बार मीडिया के सामने आए। अपनी बात कही और लौट गए। मीडिया के किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। व्हाइट हाउस से करीब 40 किलोमीटर दूर वर्जीनिया में गोल्फ खेल रहे हैं। कुछ अफसरों को बर्खास्त कर रहे हैं और कुछ अहम फैसले ले रहे हैं। इनमें से एक अफगानिस्तान और इराक से अमेरिकी सैनिकों की वापसी का है।

सीएनएन ने सूत्रों के हवाले से बताया- ट्रम्प और पत्नी मेलानिया को छुट्टियों के लिए साउथ फ्लोरिडा में अपने रिसॉर्ट में जाना था। लेकिन, अब उन्होंने वॉशिंगटन में ही रहने का फैसला किया है। व्हाइट हाउस के एक अफसर ने सीएनएन से कहा- यह बंकर में रहने की मानसिकता है।

फेंसिंग भी हट गईं
इलेक्शन डे पर व्हाइट हाउस के बाहर मेटल फेंसिंग की गई थी। अब यह हट चुकी है। वहां बाइडेन की इनॉगरेशन परेड के लिए स्टैंड्स बनने लगे हैं। चार साल पहले ये ट्रम्प के लिए भी बने थे। लेकिन, ट्रम्प हार मानने के लिए तैयार नहीं हैं। वे लोकतंत्र की जंग कानूनी तरीके से जीतना चाहते हैं। 2016 में उन्होंने लोकतांत्रिक तरीके से ही चुनाव जीता था। अब वे शायद ये भूल रहे हैं। अपने चार साल के टेन्योर में शायद ही कोई ऐसा मौका आया होगा जब ट्रम्प ने टीवी कैमरों से इस तरह दूरी बनाई होगी। लेकिन, 3 नवंबर के बाद से वे यही कर रहे हैं।

पेंस से दो बार लंच पर मिले
तीन नवंबर के बाद कई बार उनके पब्लिक प्रोग्राम लिस्ट किए गए, लेकिन हर बार इन्हें रद्द कर दिया गया। पिछले हफ्ते गुरुवार को उन्होंने विदेश और वित्त विभाग के अफसरों से मीटिंग की। वाइस प्रेसिडेंट माइक पेंस से दो बार मिले। लेकिन, करीब एक महीने से वे इंटेलिजेंस ब्रीफिंग नहीं ले रहे हैं। हालांकि, ये भी सही है कि यह ब्रीफिंग प्रेसिडेंट इलेक्ट बाइडेन तक भी नहीं पहुंच रही।

विदेशी नेताओं से बातचीत बंद
कई विदेशी नेता बाइडेन को जीत की बधाई दे चुके हैं। वहीं ट्रम्प ने इन राष्ट्राध्यक्षों से संपर्क बंद कर दिया है। फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों से उन्होंने 30 अक्टूबर को बातचीत की थी। इसके बाद किसी विदेशी नेता से संपर्क नहीं किया। अपने दो करीबी दोस्तों बेंजामिन नेतन्याहू और नरेंद्र मोदी से भी नहीं। फॉक्स न्यूज में रिपोर्टर और ट्रम्प के मित्र गेराल्डो ने पिछले दिनों ट्वीट में कहा- वो वक्त करीब आ रहा है जब आप सम्मान से विदा लेंगे। हालांकि, ट्रम्प तो जीत का दावा कर रहे हैं।

फैसले लेने में पीछे नहीं
ट्रम्प भले ही सामने नहीं आ रहे हों, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है कि वे फैसले नहीं ले रहे हों। डिफेंस मिनिस्टर मार्क एस्पर को उन्होंने हटाया, होमलैंड सिक्योरिटी चीफ को भी चलता किया। अफगानिस्तान और इराक से सैनिक कम करने का आदेश दिया। खबर आई कि वे ईरान को उसकी वादाखिलाफियों की सजा भी देना चाहते थे। इमीग्रेशन पर जल्द ही नया और सख्त फैसला ले सकते हैं। कुछ लोग मान रहे हैं कि अगले कुछ दिन शांति से नहीं गुजरेंगे।

बाइडेन भी बिजी
ट्रम्प खामोशी से और पर्दे के पीछे से फैसले कर रहे हैं। वहीं, प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन रोज मीडिया से बात कर रहे हैं और एडमिनिस्ट्रेशन पर फोकस कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, सुबह ट्रम्प टीवी देखते हैं। इसके बाद ओवल ऑफिस पहुंचते हैं और देर शाम तक वहीं रहते हैं। राष्ट्रपति ने अब तक कोरोना से मारे गए अमेरिकी लोगों पर कोई टिप्पणी नहीं की है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
चुनाव हारने के बाद 15 नवंबर को डोनाल्ड ट्रम्प गोल्फ खेलते नजर आए थे। तीन नवंबर के बाद उनका ज्यादातर वक्त व्हाइट हाउस में ही गुजर रहा है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2KnjnE7
via LATEST SARKRI JOBS

0 Response to "व्हाइट हाउस में ही रहना चाहते हैं डोनाल्ड ट्रम्प, यहां वे बंकर की तरह सुरक्षित महसूस करते हैं"

Post a comment

coronavirus

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel